मृत्यु एक रहस्य

मृत्यु!
तुम तो जीवन से भी
बड़ा रहस्य हो
तुम्हें आज तक
न कोई जान सका है
और न कोई जान पाएगा

तुम कब, कहाँ, किस रूप में
आ जाओगी या
कहीं भूल से आकर
वापिस चली जाओगी
कोई नहीं जान सकता

इस संसार में जहाँ
तुम्हारे स्वागत का
सारा साज-ओ-सामान
तैयार पड़ा है
कई मृतप्रा़य:, निष्क्रिय शरीर
तुम्हारी बाट जोह रहे हैं
पर तुम अनजान बन
दूर दूर रहती हो

वहीं इस दुनिया में
जहाँ तुम्हारे बारे में
कोई ख़्वाब या ख़्याल
दूर दूर तक भी नहीं होता
और तुम
पलक झपकने से पहले
बच्चों व नौजवानों को
झपट्टा मार कर
ऐसे ले जाती हो कि

Post Comment